MP का पहला बैली ब्रिज बनकर हुआ शुरू:लिया मात्रा 72 घंटो का समय,सेना द्वारा हुआ पूल का निर्माण ,गुजर सकेंगे इतने भरी सामान वाले वाहन

MP का पहला बैली ब्रिज बनकर हुआ शुरू – मप्र के लिए पहला बेली ब्रिज बुधवार को शुरू हुआ। भोपाल-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुखतवा नदी पर बने इस पुल को सेना ने तीन दिन में तैयार कर तैयार किया है. इसमें सेना की 80 सदस्यीय टीम ने दिन रात मेहनत की। आमतौर पर ऐसे पुल पहाड़ी इलाकों में बनाए जाते हैं। ये पुल 70 टन भार वहन करने में सक्षम हैं। कलेक्टर व विधायक की मौजूदगी में बुधवार को सेना की जिप्सी से फाइनल ट्रायल लिया गया। इससे इसे यातायात के लिए खोल दिया गया। फिलहाल इस पुल से 40 टन वजनी वाहन ही गुजर सकेंगे। इस ब्रिज से रोजाना 10 हजार से ज्यादा वाहन गुजरते हैं।

बेली ब्रिज के उद्घाटन से पहले कलेक्टर व सेना के अधिकारियों, नर्मदापुरम के कलेक्टर नीरज कुमार सिंह और सिवनी मालवा के विधायक प्रेमशंकर वर्मा ने सेना के अधिकारियों और जवानों को सम्मानित किया. सेना के जवानों ने उत्साह के साथ भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाए। इस मौके पर मेजर जनरल सुमेर डिकोना, ब्रिगेडियर अमन कंसल, कर्नल एमएस मेहता, एसडीएम मदन सिंह रघुवंशी समेत सेना के वरिष्ठ अधिकारी समेत क्षेत्र के कई जनप्रतिनिधि मौजूद रहे. कलेक्टर व विधायक की मौजूदगी में बुधवार को सेना की जिप्सी से अंतिम ट्रायल किया गया। इसके बाद पुल से यातायात शुरू हो गया है।

ब्रिज ब्रिटिश शासन के दौर में था
ब्रिटिश शासन के दौरान सुखतावा नदी पर एक पुल था। इसी साल 10 अप्रैल को भारी वजन के ट्रांसफार्मर से लदी एक लंबी ट्राली निकल रही थी। इस दौरान पुलिया के नीचे ट्राली ट्रांसफार्मर सहित नदी में गिर गई। तब से पुल बंद था। 4 महीने बाद इस क्षतिग्रस्त पुल को तैयार करने की जिम्मेदारी सेना को दी गई। सेना की 102 वीसी इंजीनियरिंग बटालियन ने 25 अगस्त को सुबह 8 बजे पुल का जायजा लिया और माल की ढुलाई की. रात आठ बजे तक काम चलता रहा। इसके बाद 26 तारीख को सुबह छह बजे से पुल बनाने का काम शुरू हो गया. रात 12 बजे तक काम करें और पुल का स्पैन लगा दें। इसमें 80 अधिकारी और सैनिक शामिल थे। यह कार्य कर्नल एम एस मेहता के मार्गदर्शन में किया गया।

nmn

भारत-चीन सीमा पर ऐसे ही बेलीब्रिज
सेना द्वारा तैयार किया जा रहा पुल बेली ब्रिज कहलाता है। सेना इस तकनीक का इस्तेमाल पहाड़ी इलाकों में पुल बनाने में करती है। इसी तकनीक से भारत-चीन सीमा पर बालीब्रिज का निर्माण भी किया गया है। यह सामान्य पुल से तेज है और सेना की परिवहन संबंधी सभी जरूरतों को भी पूरा करता है।

यहां से रोजाना 10 हजार वाहन गुजरते हैं
भोपाल-नागपुर हाईवे पर स्थित सुखतवा नदी के इस पुल से रोजाना 10 हजार से ज्यादा वाहन गुजरते हैं। इस पुल के टूटने के बाद नदी के उस पार अस्थायी पुल बनाकर यातायात किया जा रहा था। इस सीजन में बारिश के बाद आई बाढ़ में अस्थाई पुल तीन बार क्षतिग्रस्त हो चुका है। नदी में बाढ़ आने के बाद पुल पर पानी आने से घंटों यातायात बंद रहता है. NHAI द्वारा बेली ब्रिज के किनारे से एक और नया पुल बनाया जा रहा है, जिसे तैयार होने में अभी और समय लग सकता है.

talksdewas@gmail.com

Leave a Comment