कारम डैम अपडेट : कारम डैम क्षतिग्रस्त होने पर शिवराज ने की कार्रवाई,आठ इंजीनियर को बनाया निशाना

कारम डैम अपडेट : धार जिले के कारम बांध मामले में कार्रवाई करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आठ जिम्मेदार इंजीनियरों को निलंबित कर दिया है. बांध निर्माण से जुड़ी दो कंपनियों को पहले ही ब्लैकलिस्ट किया जा चुका है।

आपको बता दें कि धार का निर्माणाधीन करम बांध बारिश से भर गया था और उसमें हड़कंप जैसी स्थिति हो गई थी. इलाके के 18 गांवों को खाली करा लिया गया है। प्रशासन दिन-रात एक-एक कर बड़ी मुसीबत से बचता रहा। इस लापरवाही की जांच के बाद अब सीएम शिवराज हरकत में आ रहे हैं। शुक्रवार को सीएम के निर्देश पर आठ अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.

उन पर गिर गया
मुख्यमंत्री के निर्देश पर पी. जोशी, अधीक्षण अभियंता, जल संसाधन, विजय कुमार जथप, उप अभियंता, अशोक कुमार, उप अभियंता, दशबंता सिसोदिया, उप अभियंता, आरके श्रीवास्तव, उप अभियंता, सीएस घटोले, मुख्य अभियंता, बीएल निनामा, कार्यपालक अभियंता और वकार अहमद सिद्दकी एसडीओ को निलंबित कर दिया गया है. बता दें कि बांध निर्माण से जुड़ी दो कंपनियों को पहले ही ब्लैक लिस्ट किया जा चुका है।

बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कार्रवाई नहीं करने पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने आज ट्वीट कर कहा था कि मध्य प्रदेश के धार जिले के करम बांध क्षतिग्रस्त मामले में 15 दिन बीत चुके हैं, लेकिन अब तक किसी भी दोषी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई…? शिवराज सरकार ने चार सदस्यीय जांच कमेटी बनाकर पांच दिन में जांच कर कार्रवाई करने का दावा किया था, लेकिन 11 दिन हो गए हैं, जांच रिपोर्ट कहां है, किसके पास है, यह अभी पता नहीं चला और कोई कार्रवाई नहीं हुई. अभी तक। इस बांध को लेकर जिस तरह की बयानबाजी की जा रही है उससे समझा जा सकता है कि सरकार दोषियों को छुपाने और बचाने की कोशिश कर रही है. यह बहुत ही शर्मनाक है कि इस बांध के निर्माण के नाम पर 304 करोड़ रुपये बर्बाद हो गए और अब जिम्मेदार दोषियों को बचाने के लिए इसे तालाब कहा जा रहा है. इस भ्रष्टाचार पर कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी। जब तक दोषियों को सजा नहीं मिलती हमारा संघर्ष जारी रहेगा।

talksdewas@gmail.com

Leave a Comment