मामा-भांजा : मरे बच्चे को जिन्दा करने के लिए की 36 घंटे पूजा-पाठ,अन्धविश्वाश,मामा का सपना,कुलदेवी ने सपने में कहा….

मामा-भांजा। आपने तंत्र-मंत्र की कई कहानियां सुनी-पढ़ी होंगी। मध्यप्रदेश के रीवा में ऐसी घटना हुई हैं। यहां 4 साल के बच्चे की मौत के 20 दिन बाद उसे जिंदा करने के लिए 36 घंटे तक एक मंदिर पर मजमा लगा रहा। इनमें बच्चे की मां और उनके परिवार वाले भी शामिल थे। करीब 100 से ज्यादा लोग पूजा-पाठ, कीर्तन करते रहे। ढोलक-मंजीर बजते रहे। भजन चलते रहे। 24 घंटे बाद भंडारा भी हुआ, लेकिन जाने वाले कभी लौटकर नहीं आते। आखिरकार निराश होना पड़ा। ये सब हुआ एक सपने की वजह से।

रीवा जिले का गुढ़ थाना क्षेत्र का भीटी गांव। यहां रहने वाली ऋतु कॉल पति अर्जुन कॉल (25) के तीन बच्चे हैं। दो बेटी हैं। 4 साल का बेटा अहम उर्फ अभी कॉल था। अहम की 20 दिन पहले तबीयत खराब हुई। वह खेलते-खेलते बीमार हो गया था। परिवार वाले उसे संजय गांधी अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां अहम की मौत हो गई। परिवार वालों ने गांव ले जाकर शव दफना दिया। मां ऋतु कलेजे के टुकड़े को भूल नहीं पा रही थी। वह गुमसुम रहने लगी। करीब 5 दिन पहले रायपुर कर्चुलियान थाना अंतर्गत खीरा गांव का रहने वाले मुनेश कॉल (मामा) उनके घर पहुंचे। मुनेश ऋतु के बड़े भाई हैं। यहां ऋतु को बताया कि उसे कुलदेवी सपने में आई थीं। उन्होंने कहा है- तू सो रहा है और वहां जिंदा भांजे को दफना आया है। तू कब्र की मिट्टी लेकर मेरे दर पर आ। पूजा-अर्चना और भजन-भक्ति कर। मैं उसे जिंदा करूंगी।

मामा-भांजा। भाई की बात सुनते ही मां की इकलौते बेटे के लिए ममता जाग गई। उसने तुरंत ये बात परिवार वालों को भी बताई। फिर क्या था, परिवार वाले तुरंत भीटी गांव से 25 किलोमीटर दूर सगरा थाना अंतर्गत​​​​​​​ बक्क्षेरा स्थित शारदा देवी के मंदिर के लिए निकल पड़े। साथ में सपने के अनुसार बच्चे की कब्र की मिट्‌टी भी ले गए। गुरुवार शाम 4 बजे से मंदिर पर पूजा-पाठ शुरू हो गया। माता की मूर्ति के सामने टोकरी के नीचे कब्र की मिट्‌टी को रखा गया। साथ ही, एक पुतला बनाकर भी रखा गया। गांव के 100 से ज्यादा लोग इकट्‌ठा हो गए। इसके बाद यहां पूजा-पाठ शुरू हो गया। ढोल-मंजीरों की धुन पर भजन होने लगे। ये सिलसिला करीब 24 घंटे तक चला।

talksdewas@gmail.com

Leave a Comment