Crab Farming : कम लागत में तगड़ा मुनाफा देता केकड़ा पालन कुछ समय में बन जाओंगे मालामाल

0
टॉक्स 16

Crab Farming : कम लागत में तगड़ा मुनाफा देता केकड़ा पालन कुछ समय में बन जाओंगे मालामाल दुनिया की लगातार बढ़ती आबादी के चलते आज हमें ऐसे पौष्टिक भोजन के स्रोत खोजने होंगे, जो हमारे शरीर को स्वस्थ और तंदुरुस्त बना सकें. दुनिया की एक बड़ी आबादी आज समुद्री भोजन (जलीय भोजन) पर निर्भर करती है. जो लगातार बढ़ रहा है.

अंतरराष्ट्रीय बाजार में केकड़ों की मांग बढ़ने के साथ, मछली, झींगा (लॉबस्टर) और केकड़े जैसे समुद्री भोजन की मांग हमारे देश भारत में भी बढ़ने लगी है. हमारे देश में समुद्री भोजन के शौकीन लोग बड़े चाव से केकड़ा खाना पसंद करते हैं. केकड़े की उपयोगिता सिर्फ खाने के लिए ही नहीं है बल्कि केकड़े का उत्पादन औषधीय प्रयोजनों (दवा बनाने) के लिए भी किया जाता है.

लाभदायक-कम-निवेश-केकड़ा-पालन-व्यवसाय

मौजूदा बाजार में केकड़े की मांग इसकी आपूर्ति से कहीं ज्यादा है, ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत में मौजूदा कृषि-आधारित व्यवसाय के तहत केकड़े का उत्पादन बहुत कम मात्रा में किया जा रहा है. इसके अलावा, कई कुशल और दक्ष उद्यमी/किसान भी केकड़ा पालन व्यवसाय में विशेष रुचि नहीं लेते हैं.

यह भी पढ़िए-महज 4 लाख रुपए में अपना बनाये Hyundai Verna को मिलते है लक्ज़री फीचर्स और 22Km का तगड़ा माइलेज

आज इस लेख में हम आपके साथ कृषि आधारित व्यवसाय के तहत केकड़ा पालन व्यवसाय से जुड़ी विस्तृत जानकारी साझा करने जा रहे हैं, अगर आप केकड़ा पालन व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं या शुरू करने की सोच रहे हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए है. यह मददगार साबित हो सकता है.

केकड़ा पालन करने से पहले, इच्छुक किसान/उद्यमी के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि व्यावसायिक रूप से किए जाने वाले केकड़ा पालन के तहत केकड़ों की किन किस्मों की खेती की जाती है. भारत में केकड़ा पालन के अंतर्गत बड़े पैमाने पर केवल दो प्रजातियों की खेती की जाती है –

  • लाल पंजा केकड़ा (Red Claw Crab)
  • मड क्रेब (Mud Crab)

लाल पंजे वाले केकड़ों का आकार लगभग 13 सेंटीमीटर और वजन लगभग 1.2 से 1.5 किलोग्राम होता है. लाल पंजा केकड़े को मिट्टी में रहने की आदत होती है.

केकड़ा पालन के लिए प्रभावी योजना बनाएं

किसी भी कृषि आधारित व्यवसाय को स्थापित करने से बेहतर मुनाफा कमाने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि इच्छुक उद्यमी/किसान एक प्रभावी योजना विकसित करें. केकड़ा पालन व्यवसाय या केकड़ा पालन को एक आसान खेती माना जाता है, बशर्ते यह योजनाबद्ध तरीके से किया जाए.

केकड़ा पालन से जुड़े सभी पहलुओं को जानने के लिए जैसे – जवान केकड़े कहां से मिलते हैं?, केकड़ा पालन का प्रभावी तरीका?, विषय विशेषज्ञ से सलाह, तैयार फसल के फ़ीड, कटाई और विपणन आदि से जुड़े विभिन्न घटकों पर गहन जानकारी प्राप्त करने की आवश्यकता है?

कम-निवेश-में-केकड़ा-पालन-व्यवसाय-लाभदायक-केकड़ा-पालन

केकड़ा पालन के लिए जगह कैसे चुनें?

केकड़ा पालन के लिए ऐसी जगह चुनी जाती है जो गाद से ढकी हो या उथले पानी के स्तर वाली हो. यह स्थान पारंपरिक या कृत्रिम रूप से बनाए गए तालाबों और जलाशयों पर हो सकता है. केकड़े नमी में रहना पसंद करते हैं.

यह भी पढ़िए-KTM को कच्चा चबा जाएँगी Pulsar N250 मिलेंगे ब्रांडेड फीचर्स और अट्रैक्टिव लुक

इसलिए, उन्हें ऐसी जगह की आवश्यकता होती है जहां नमी और पानी की उपलब्धता हो. साथ ही, चुनी गई जगह को ऐसा बनाना भी जरूरी है कि उसमें पानी का रिसाव न हो, क्योंकि पानी के रिसाव से केकड़े बाहर निकल सकते हैं, जिससे आपको केकड़ा पालन में नुकसान उठाना पड़ सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *